कुशीनगर: पडरौना ,काश्तकार से काम के बदले पंद्रह हजार रुपये घूस लेते लेखपाल वंश बहादुर यादव को विजिलेंस टीम ने बुधवार को पडरौना सदर तहसील परिसर से गिरफ्तार कर लिया। विजिलेंस निरीक्षक की तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने आरोपी लेखपाल के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम सहित विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया। आरोपी लेखपाल लेखपाल संघ के पडरौना तहसील का अध्यक्ष है। बताया जाता है कि पडरौना तहसील के गांव बंदी छापर निवासी रामनरेश दूबे भूमि से जुड़े मामले के निस्तारण के लिए बीते काफी समय से हल्का लेखपाल वंश बहादुर यादव का चक्कर लगा रहे थे। किंतु लेखपाल कुछ सुनते नहीं थे  इसके बदले लेखपाल ने दूबे से घूस की मांग की। इससे परेशान आकर दूबे ने इसकी शिकायत विजिलेंस टीम गोरखपुर में की। इधर बुधवार को दोपहर में दूबे तहसील परिसर पहुंचे, और हल्का लेखपाल से मुलाकात कर उसके अनुसार मांगी गई रकम पंद्रह हजार रुपये दे मामले के निस्तारण की मांग की। इसी दौरान श्रीधराचार्य पांडेय के नेतृत्व में बारह सदस्यीय विजिलेंस टीम गोरखपुर ने लेखपाल को रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के बाद टीम आरोपी लेखपाल को लेकर पडरौना कोतवाली पहुंची, जहां कागजी कार्रवाई के दौरान मौका देख आरोपी लेखपाल कोतवाली की चहरदीवारी फांद परिसर से भाग निकला। हालांकि इसकी खबर लगते ही विजिलेंस टीम ने लेखपाल का पीछा कर कुछ दूरी पर ही उसे धर दबोचा। निरीक्षक विजिलेंस पांडेय की तहरीर पर पुलिस ने लेखपाल वंश बहादुर यादव के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया।